जानें सिबिल स्कोर क्या है और कैसे काम करता है एवं अपना सिबिल स्कोर कैसे जान सकते हैं!

जानें सिबिल स्कोर क्या है और कैसे काम करता है एवं अपना सिबिल स्कोर कैसे जान सकते हैं!

सिबिल “CIBIL” (Credit Information Bureau India Limited) एक क्रेडिट इंफोर्मेशन रिपोर्ट जारी करने वाली आरबीआई द्वारा मान्यता प्राप्त कंपनी है
जो क्रेडिट से जुड़ी चीजों का रिकॉर्ड रखती है. जैसे कि किस तरह से आप लोन का भुगतान करते हैं, आपका ट्रांजैक्शन कैसा है, किस तरह से आप ईएमआई भरते हैं, इसी आधार पर आपका सिबिल स्कोर तैयार किया जाता है. जो कि 300 से 900 के बीच में होता है. ज्यादातर मामलों में 750 सिबिल स्कोर को एक बेहतरीन क्रेडिट स्कोर माना जाता है.

सबसे पहले समझते हैं…

आखिर सिबिल स्कोर होता क्या है?

सिबिल स्कोर व्यक्ति की क्रेडिट योग्यता को दर्शाने वाले 3 अंक के नंबर होते हैं जो कि 300 से 900 के बीच में होते है. जितना ज्यादा आपका सिबिल स्कोर होगा उतनी ही ज्यादा आपकी क्रेडिट वैल्यू मानी जाएगी. बैंक और प्राइवेट संस्थान लोन देने के जोखिम को जांचने के लिए इसी सिबिल स्कोर का उपयोग करते हैं.

अब समझते है…

सिबिल (CIBIL) कैसे काम करता है?

सिबिल व्यक्तियों और कंपनियों के लिए क्रेडिट स्कोर, रैंक और रिपोर्ट जनरेट करता है.

इसका काम करने का तरीका बड़ा आसान हैं:

सबसे पहले बैंक और फाईनेंस संस्थान (एनबीएफसी) अपने ग्राहकों का डेटा जमा करते हैं जो कि आप और हम जैसे लोगों का होता है. इस डेटा में, लिए गए लोन, नए आवेदन, पुनर्भुगतान रिकॉर्ड, और अन्य क्रेडिट से संबंधित जानकारी हो सकती है. यही जानकारी सिबिल कंपनी को भेजी जाती है.

इसके बाद ट्रांसयूनियन सिबिल इन सभी डेटा का मूल्यांकन करता है और फिर उसी आधार पर रिपोर्ट तैयार की जाती है. इसी रिपोर्ट को भविष्य के लिए रिकॉर्ड में शामिल किया जाता है.

यही वो रिपोर्ट होती है जिसके आधार पर बैंक और एनबीएफसी आपके द्वारा लिए जा रहे लोन और क्रेडिट कार्ड को स्वीकार या अस्वीकार करते हैं.

Chances of getting loan based on credit score
लोन मिलने की संभावना क्रेडिट स्कोर के मुताबिक (फोटो: Pixabay)

अब बात आती है…

हम अपना सिबिल स्कोर कैसे जान सकते हैं?

इंटरनेट पर ऐसे कई सोर्स उपलब्ध है जिनके जरिए आप अपना सिबिल स्कोर चेक कर सकते हो. अपना सिबिल स्कोर पता करने के लिए आपको कुछ चार्ज सब्सक्रिप्शन के रूप में जमा करना होता है. हालांकि साल में एक बार आप फ्री सिबिल स्कोर चेक कर सकते हो इसके ऑफिशियल स्रोत पर.

फ्री में अपना सिबिल स्कोर चेक करने के लिए नीचे बताए गए स्टेप्स को फॉलो करें:

स्टेप 1: सबसे पहले www.myscore.cibil.com पर जाएं और अपनी व्यक्तिगत जानकारी देकर सिबिल अकाउंट बनाएं.

(व्यक्तिगत जानकारी में आपसे आपका नाम, जन्मतिथि, ईमेल आईडी, मोबाइल नंबर, जैसी जानकारी मांगी जा सकती है.)

स्टेप 2: अब जो आपने ईमेल आईडी और मोबाइल नंबर दिया था उस पर एक ओटीपी जाएगा उसको यहां दर्ज करें.

इस तरह साल में एक बार आप फ्री में सिबिल स्कोर पता कर सकते हैं.

इसको और अच्छे से समझने के लिए आप नीचे इमेज देख सकते हैं:

Way to check cibil score for free
फ्री में सिबिल स्कोर चेक करने का तरीका (फोटो: Pixabay)

ध्यान रहे: इस प्रक्रिया से केवल साल में एक बार ही आप फ्री में सिबिल स्कोर पता कर सकते हैं. नियमित रूप से अपडेटेड रहने के लिए आपको पेड सब्सक्रिप्शन लेने की आवश्यकता होगी. फिलहाल (सितंबर 2022 तक) इसकी कीमत 1 महीने के लिए 550 रु. (बेसिक प्लान) से शुरू होती है.

सिबिल स्कोर सुधारने के कुछ बेहतरीन तरीके

सिबिल स्कोर सुधारने के लिए कुछ चीजें हैं जिनको आपको ध्यान में रखना होगा:

समय पर भुगतान करें
फर्क नहीं पड़ता आप ईएमआई से कोई सामान खरीदते हैं या फिर लोन लेते हैं. बस उसका भुगतान समय पर करें.

एक बार में बहुत से लोन लेने से बचें
एक बार में कई लोन लेने से आप पर किस्त का बोझ बढ़ सकता है. जिसके चलते किस्त अदा करने में देरी हो सकती है और इसका सीधा असर आपके सिबिल स्कोर पर पड़ता है.

क्रेडिट लिमिट का ज्यादा इस्तेमाल न करें
क्रेडिट कार्ड की लिमिट का 30% से ज्यादा इस्तेमाल न करें. इससे भी आपके सिबिल स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है.

अपनी क्रेडिट रिपोर्ट पर नजर बनाए रखें
कई बार गलती किए बिना भी आपका सिबिल स्कोर कम हो जाता है. ऐसी स्थिति में आप इसकी रिपोर्ट कर सकते हो. इसीलिए नियमित रूप से अपनी क्रेडिट रिपोर्ट पर नजर बनाए रखें.

हमेशा अपने क्रेडिट स्कोर के प्रति ईमानदार रहें. यह कुछ चीजें हैं जिन्हें आपको ध्यान में रखना चाहिए. आप क्रेडिट स्कोर को सुधारने को लेकर नीचे इमेज भी देख सकते हैं.

Ways to improve cibil score
सिबिल स्कोर सुधारने के 6 तरीके (फोटो: Pixabay)

सिबिल स्कोर खराब होने की वजह

ज्यादातर लोग कहीं ना कहीं कुछ ऐसी गलती कर देते हैं जिसके कारण उनका सिबिल स्कोर खराब हो जाता है. जिसके चलते कोई चीज फाइनेंस कराने और लोन लेने में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इसके पीछे कई वजह हो सकती हैं जिनमें शामिल है:

  • ईएमआई (EMI) भरने में देरी होना
  • क्रेडिट कार्ड की लिमिट का ज्यादा उपयोग कर लेना या भुगतान में देरी होना
  • साथ ही अगर आप लोन लेने के बहुत ज्यादा प्रयास करते हो तो इससे भी आपका सिबिल स्कोर प्रभावित हो सकता है. क्योंकि जहां-जहां आप लोन लेने के लिए प्रयास करोगे वहां पर आपका सिबिल स्कोर चेक किया जाएगा जिससे सिबिल स्कोर पर एक नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. आपके द्वारा किए गए आवेदन खारिज होने पर भी आपके सिबिल स्कोर पर बहुत प्रभाव पड़ता है.
Cibil score effect factors
सिबिल स्कोर प्रभावित करने वाले 4 फैक्टर्स (फोटो: Pixabay)

सिबिल पोर्टल पर शिकायत दर्ज करने का तरीका

अगर आपको लगता है कि आपके सिबिल स्कोर के साथ कोई गड़बड़ी हुई है या अचानक आपका सिबिल स्कोर कम हो गया है बिना कोई गलती के तो इसकी रिपोर्ट आप सिबिल पोर्टल में कर सकते हैं इसके लिए नीचे बताए गए स्टेप्स को फॉलो करें:

  • स्टेप 1: myCIBIL पर लॉग-इन करें.
  • स्टेप 2: Credit Reports पर क्लिक करें इसके बाद Dispute Center में जाएं फिर Dispute an Item पर क्लिक करें.
  • स्टेप 3: सिबिल ऑनलाइन शिकायत फ़ॉर्म भरें फिर संबंधित शिकायत सेक्शन को सिलेक्ट करें इसके बाद सबमिट बटन पर क्लिक करें.

इस तरह आप सिबिल पोर्टल पर शिकायत दर्ज कर सकते हैं. यहां आपको शिकायत नंबर मिलेंगे उन्हें सेव कर लें. यह शिकायत की स्थिति पता करने के लिए आगे काम आएंगे.

ध्यान रहे: समाधान मिलने में 30 दिन या फिर इससे ज्यादा का समय लग सकता है.

ऐसे पता करें सिबिल शिकायत स्थिति

सिबिल हर 7 दिनों में ई-मेल के द्वारा शिकायत की स्थिति के बारे में सूचित करता है. इसके अलावा आप कस्टमर केयर से भी स्थिति के बारे में पूछ सकते हैं. कस्टमर केयर से बात करते वक्त आपको उसी शिकायत आईडी की जरूरत होगी जो आपको शिकायत दर्ज कराते वक्त मिली है.

हमारे लिए सिबिल स्कोर का महत्व

बैंकिंग से जुड़े कामों में सिबिल स्कोर एक अहम भूमिका निभाता है. जब भी आप लोन या क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करते हैं तो सबसे पहले लोन दाता आपके सिबिल स्कोर को देखता है. आपका सिबिल स्कोर सही पाया जाने पर ही आगे की प्रक्रिया को बढ़ाया जाता है.

और खास आपके लिए पूर्व-स्वीकृत लोन के अवसर बढ़ जाते हैं जिसका मतलब बैंकों द्वारा आपके लिए पहले से ही अप्रूव्ड लोन के ऑफर आने लगते हैं.

साथ ही सिबिल स्कोर सही होने पर ब्याज दर भी कम लगती है. क्योंकि इसमें ऋणदाता को जोखिम कम होता है.

इतना ही नहीं एक बेहतरीन सिबिल स्कोर होने से आपको उच्च राशि वाले लोन लंबी अवधि के लिए मिल सकते हैं.

और सबसे अहम फायदा, एक अच्छा सिबिल स्कोर होने से बैंकिंग दुनिया में आपको जिम्मेदार ग्राहक समझा जाता है.

भारत में है कुल 4 क्रेडिट इन्फॉर्मेशन कंपनी

आपको यह भी पता होना चाहिए भारत में कुल 4 क्रेडिट ब्यूरो कंपनी है जो की क्रेडिट स्कोर मुहैया कराती है.

  • ट्रांसयूनियन सिबिल लिमिटेड
  • इक्विफैक्स
  • एक्सपीरियन
  • सीआरआईएफ हाईमार्क

इनमें सबसे पुरानी ट्रांसयूनियन सिबिल है. इसकी स्थापना साल 2000 में हुई. वहीं इक्विफैक्स, एक्सपीरियन और सीआरआईएफ हाईमार्क इसके बाद भारत में आईं.

सिबिल स्कोर से संबंधित कुछ अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

बैंकों से लोन लेने के लिए कितना सिबिल स्कोर होना चाहिए?

ज्यादातर बैंक 750 सिबिल स्कोर में लोन की सुविधा प्रदान करते हैं. हालांकि इससे कम में भी आपको कई बैंकों से लोन मिल सकता है. बशर्त आप बैंक की अन्य शर्तों पर खरा उतरते हो.

सिबिल स्कोर खराब होने पर क्या करना चाहिए?

ये कुछ सिबिल स्‍कोर को ठीक करने के उपाय जिसने आप अपने सिबिल स्कोर को सही कर सकते हो:
बकाया का समय पर भुगतान करें.
क्रेडिट की रेटिंग खराब न होने दें.
हद से ज्यादा लोन के लिए आवेदन ना करें.
नियमित रूप से क्रेडिट रिपोर्ट चेक करते रहे.
क्रेडिट स्कोर में गलती पाए जाने पर उसे ठीक कराएं.
अपने शेड्यूल पर कायम रहे.

सबसे अच्छा सिबिल स्कोर कितना होता है?

750 से ऊपर सभी अंक को एक बेहतरीन सिबिल स्कोर माना जाता है.

सिबिल स्कोर कितने दिन में ठीक होता है?

इसका कोई निश्चित समय नहीं है. अगर आप कोई बदलाव करते हो तो इसे 45 दिन से ज्यादा का समय लग सकता है आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में शामिल होने तक. ये कई तरह के स्त्रोत पर निर्भर करता है जैसे बैंक आपकी क्रेडिट रिपोर्ट कितने दिनों में भेजती है वगैरह.

खराब सिबिल स्कोर पर कौनसी बैंक लोन देती है?

ये समय के मुताबिक बदलता रहता है. हालांकि अगर आपका सिबिल स्कोर कम है तो बैंक की जगह एनबीएफसी (NBFC) से लोन लेना बेहतर ऑप्शन होता है. क्योंकि यह संस्थान कम क्रेडिट स्कोर वाले ग्राहकों को भी लोन देती हैं. लेकिन इसमें ब्याज-दर बैंकों के मुकाबले अधिक हो सकती है.


Leave a Reply

Your email address will not be published.